HINDI POEM ON TEACHERS’ DAY : DHANYA HO GURU!

हिन्दी कविता शिक्षक दिवस पर – धन्य हो गुरु!

 

हे शिक्षाविद, दार्शनिक, महान वक्ता तथा आस्थावान विचारक डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन

हम आपको करते हैं याद और करते हैं नमन

आपने शिक्षा के क्षेत्र में दिया है अमूल्य योगदान

आपका जन्मदिन 5 सितम्बर को पालन करते हैं शिक्षक दिवस

हम सब शिक्षकों को तहेदिल से करते हैं सम्मान।

 

शिक्षक हैं हमारे गुरु, Friend, Philosopher and Guide

उनके ही मार्गदर्शन से mature और बेहतर होता है हमारा सोच विचार और mind

भारतीय परम्परा हमें यह सिखाता है….

गुरूर ब्रह्मा गुरूर विष्णु गुरूर देवो महेश्वर:

गुरु: साक्षात्परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ।

 

धन्य हो गुरु! धन्य तुम्हारा धैर्य

उचित ज्ञान देना, सही रास्ता दिखाना है तुम्हारा धर्म

गुरु द्रोणाचार्य नहीं होते तो अर्जुन कहाँ से आता ?

गुरु रामकृष्ण नहीं होते तो विवेकानंद भी नहीं होता

गुरु आचरेकर नहीं होते तो तेंदुलकर भी नहीं होता।

 

धन्य हो गुरु! धन्य  हो गुरु! धन्य धन्य

हे गुरु! शिक्षण का पेशा है महान

दुनिया भर में फैलाते  हो सही निशान

हम पढ़ते हैं, हम लिखते हैं, हम पाते हैं ज्ञान

तुम्हीं पढ़ाते हो इतिहास, भूगोल और विज्ञान

अच्छे नागरिक बनके देश का बढ़ाते हैं शान।

 

चलो, याद करें…

Alexandar the Great ने जो कहा था….

“मैं जीने के लिए अपने पिता का ॠणी हूँ, पर अच्छे से जीने के लिए अपने गुरु का”

फिर से याद करें…

गुरूर ब्रह्मा गुरूर विष्णु गुरूर देवो महेश्वर:

गुरु: साक्षात्परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ।  

 

 

(HINGLISH MEIN DHANYA HO GURU!)

 

Hey shikshavid, darshanik, mahan wakta tatha aasthawan vicharak Dr. Sarvapalle Radhakrishnan

Ham aapko karte hain yad aur karte hain naman

Aapne shiksha ke kshetra mein diya hai amulya yogdan

Aapka janmdin 5 Sitamvar ko palan karte hain shikshak diwas

Ham sab shikshakon ko tahedil se karte hain samman.

 

Shikshak hai hamare Guru, Friend, Philosopher and Guide

Unke hi margdarshan se mature aur behtar hota hai hamara soch vichar aur mind

Bhartiya parampara hamen yah shikhata hai…

Gurur Brahma Gurur Vishnu Gurur Devo Maheshwarah

Guru : Sakshatparabrahma Tasmai Shree Gurave Namah.

 

Dhanya ho Guru! Dhanya tumhara dhairya

Uchit gyan dena, sahi rasta dikhana hai tumhara dharm

Guru Dronacharya nahin hote toh Arjun kahan se aata?

Guru Ramakrishna nahin hote toh Vivekananda bhi nahin hota

Guru Aachrekar nahin hote toh Tendulkar bhi nahin hota.

 

Dhanya ho Guru! Dhanya ho Guru! Dhanya Dhanya

Hey Guru! Shikshan ka pesha hai mahan

Duniya bhar mein phailate ho sahi nishan

Ham padhte hain, ham likhte hain, ham pate hain gyan

Tumhi padhate ho Itihas, Bhoogal aur Vigyan

Achchhe nagrik banke desh ka badhate hain shan.

 

Chalo, yad Karen….

Alexandar the Great ne jo kaha tha…

“Main jeene ke liye apne pita ka rrini hun, par achchhe se jeene ke liye, apne Guru ka”

Phir se yad Karen…

Gurur Brahma Gurur Vishnu Gurur Devo Maheshwarah

Guru : Sakshatparabrahma Tasmai Shree Gurave Namah.

 

***********

 

हिन्दी कवि – रतिकान्त सिंह

Hindi Poet – Ratikanta Singh